प्रेगनेंसी में क्या खाना है क्या नहीं खाना है?

Pregnant Women Diet

जब मैं प्रेगनेंट थी तो कुछ भी खाने से पहले सोचती, यह खाऊं ? बच्चे को नुक़सान कर दिया तो? अभी गूगल चाचा से पूछती हूँ। एक दिन तो मैंने आलू की सब्ज़ी में बहुत सा हींग डाल कर खा लिया (प्रेगनेंसी की अतरंगी क्रेविंग्स हहहह) फिर दिमाग की बत्ती जली की उफ्फ्फ चलो जल्दी गूगल चाचा से पूछती हूँ, वहां से भी कोई बढ़िया जवाब नहीं मिला।

फिर पेरेंटिंग साइट्स पर जाकर डॉक्टर्स को लिख दिया। जवाब आने के बाद चेन मिला कि इतना परेशान होने की ज़रूरत नहीं थी, होने वाले बच्चे की अम्मा। इतना सारा ज्ञान जमा किया है कि क्या खाना और क्या नहीं खाना वो आपको दे रही हूँ। तो चलो फिर शुरू करते हैं :

पहले बात, कि क्या नहीं खाना है:

सुनिए जी अगर आप ऐल्कहॉल, का इस्तेमाल, धुम्रपान, या किसी भी तरह का नशा करती हैं तो उसको आपको अब बंद करना होगा, जैसे ही आपको प्रेगनेंसी के बारे में पता चलता है तभी से। यह आपके गर्भ में पल रहे बच्चे के स्वास्थ और विकास के लिए बहुत ज़रूरी है।

असल में, यह ही एक ऐसी चीज़ हो सकती है जो करना कई लोगों के लिए मुश्क़िल हो सकता है। इसलिए भी जो महिलायें स्मोकिंग की लत में हैं उन्हें पहले स्मोकिंग पर काबू फिर बच्चा प्लान करने की सलाह दी जाती है। अगर आपके लिए यह मुश्किल हो रहा है तो एक विशेषज्ञ से मिलिए, उनकी मदद लीजिये।
साथ ही अगर आप बच्चे के पिता हैं तो आपको भी गर्भवती महिला के सामने स्मोकिंग बंद करनी होगी। इसके लिए यह पढ़िए।

cigarettes in pregnancy

अब अधपक्का, कच्चा और किसी भी तरह का प्रोसेस्ड मीट या मछली या अंण्डा आपको इस दौरान नहीं खाना है, क्यूँकि इसमें मौजूद कई तरह के बैक्टीरिया या पैरासाइट्स से आपके गर्भ में पल रहे बच्चे को संक्रमण की सम्भावना दे सकता है जिसकी वजह से उन्हें कई स्वास्थ सम्बंधित तकलीफ हो सकती है।
अच्छा लगभग यही बात कच्चे स्प्राउट्स यानि की अंकुरित दालों पर भी लागू होती है। लेकिन अगर यही अंकुरण अच्छे से धुले और पक्के हुए हैं यानी भाप लगाए हुए हैं तो कई पोषण से भरे होते हैं।

Good food for pregnancy in Hindi

बिना पाश्चुरीकृत प्रक्रिया के तैयार हुआ कच्चा दूध या पनीर इस समय आपको नहीं लेना है, सिर्फ पाश्चुरीकृत प्रक्रिया यानि सरल शब्दों में उबाला हुआ दूध ही आपको लेना है।


कोई भी फल, सब्ज़ी बिना धोये खाना एक दम बंद क्यूंकि यह वैसे भी एक अच्छी आदत नहीं है और इस दौरान तो बिलकुल भी नहीं।
कैफ़ीन की मात्रा जैसे चाय, कॉफी वगहैरा वैसे तो मना नहीं की जाती हैं लेकिन अगर आप इनका इस्तेमाल हर रोज़ बहुत ज्यादा कर रहे हैं तो आपको ध्यान रखना है कि इसको कम मात्रा में ही लें, इसके अलावा आपके डॉक्टर क्या कहते हैं वो भी सुन लीजिये।

अब बात कि क्या खाना है:

उम्मीद है आपने अब तक, फोलिक एसिड, आयरन, केल्शियम के सप्लीमेंट्स शुरू कर दिए हैं। इस समय शरीर के लिए ज़रूरी पोषक तत्वों के लिए आपको अपने खाने में ध्यान से हरी, पत्तेदार सब्ज़ियाँ शामिल करनी चाहिए।
ख़ास तौर से फाइबर और कैलरीज़ के लिए ड्राई फ्रूट्स को अपनी डेली डाइट में शामिल कीजिये। अगर आप मासाहारी हैं तो कम वसा मास भी ज़रूर ले सकती हैं लेकिन एक बार डॉक्टर से भी चेक कर लीजिये।
फिर अंडे, कुछ ख़ास किस्म की मछलियाँ छोड़ कर आप मछली भी इस डाइट में शामिल कर सकती हैं।
फल, और जूस यह ज़रूर ध्यान में रखिये। दही, दूध का भी इस्तेमाल बेहतर है।

कुछ ज़रूरी बातें:

इस दौरान आपका शरीर और बच्चे का विकास एक और ज़रूरी तत्व पर निर्भर करता है वो है पानी। आप कहीं भी ट्रेवल कर रही हैं, अपने साथ हमेशा एक पानी की बोतल रखिये, और पानी पीने का ध्यान रखिये। आम तौर पर कहा जाता है कि इस दौरान 8 से 12 गिलास पानी आपको डिहाइड्रेशन से बचाता है और इस समय जो कब्ज़ की समस्या महिलाओं में बहुत सामान्य होती है उसको रखने में भी मदद करता है।

water, glass, in pregnancy

कई लोगों को लगता है कि क्यूंकि वो प्रेगनेंट हैं तो अब उन्हें दो लोगों के लिए खाना, खाना है। ऐसा बिलकुल नहीं है। आप उतना ही खायें जितने की भूख हो। लेकिन यह भी हो सकता है कभी-कभी आपको बहुत ही भूक लगे। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि दो लोगों के खाने की ज़रूरत है।
याद रखिये, ज़रूरत से ज्यादा खाना आपके वज़न को बढ़ा सकता है। प्रेगनेंसी मे ज़रूरत से ज्यादा बढ़ा हुआ वज़न भी प्रेगनेंसी, बच्चे के जन्म, आपके इन दिनों के लिए कई परेशानियाँ खड़ी कर सकते हैं। इसलिए एक संतुलित वज़न के लिए संतुलित और सही मात्रा में खाना ज़रूरी है।

प्रेगनेंसी के दौरान आप कितनी मात्रा में नमक ले रही हैं इसका आपको विशेष ध्यान रखना है। अधिक मात्रा में नमक शरीर में जाना “वाटर रिटेंशन” यानि ज्यादा सोडियम से शरीर में बहुत अधिक पानी जमा हो जाता है-जिससे पेट फूलना यानी ब्लोटिंग, पैरों, पेट, चेहरे और कूल्हों में सूजन, जोड़ों में अकड़न, वजन में उतार-चढ़ाव जैसी और कई परेशानियां भी हो सकती हैं। इसलिए पैकेट वाले चिप्स, नमकीन इन पर ज़रूर नज़र रखें।

Salt in pregnancy in Hindi

यह सभी बातें मेरे निजी अनुभव और रिसर्च पर आधारित हैं। फिर भी कोई सवाल हो तो नीचे कमेंट में लिखिए, जल्दी आपको जवाब दिया जायेगा।

#pregnancymeinkyakhanachahiyeaurkyanahi #Pregnancymeinkyakhanachahiye?

1 thought on “प्रेगनेंसी में क्या खाना है क्या नहीं खाना है?”

  1. Pingback: प्रेगनेंसी में एक सही डॉक्टर का चुनाव कैसे करें? Choosing a right doctor for pregnancy - Mummy and Rumi - Read and share stories of motherhood

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *