Periods late, Periods miss होने के क्या कारण हो सकते हैं? Why is period missing or late?

late periods, missing periods, doubt of pregnancy in Hindi

Periods late होने के, चूकने के बहुत सारे कारण हो सकते हैं। जैसे प्रेगनेंसी, चिंता-तनाव, वजन कम होना या वजन ज़्यादा होना, गर्भनिरोधन, मेनोपोज़ यानि रजोनिवृत्ति, PCOS-PCOD-पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम जैसे कारण आम है।

इतने सीरियस टॉपिक पर बात शुरू करें इससे पहले मैं आपको इसी बारे में एक मज़ेदार क़िस्सा सुनती हूँ। कुछ दिन पहले मेरी एक सहेली, राइमा जिसकी अभी शादी नहीं हुई है, से मैं मिलने गई। मैं उसकी मम्मी और वो हम लोग चाय पी रहे थे। फिर हम औरतों की चिक-चिक शुरू हो गई और अपना-अपना दुखड़ा हम लेडीज़ लोग बताने लगे और हमारी बात पीरियड्स के टॉपिक पर चली गई। तभी राइमा बोली अरे मेरे पीरियड्स एक दिन भी लेट हो जाते हैं तो मुझे बड़ी टेंशन हो जाती है। राइमा की मम्मी ने चाय का कप रोका और हम दोनों को देखें लगी, राइमा मुझे देखें लगी, मैंने घबराते हुये कहा, अर्रे वही न पीरियड्स हो जायें तो दिमाग फ्री हो जाता है न। हाहाहाहाहा !

तो आप तो समझ ही गए होने न कि पीरियड्स के मिस होने का सबसे पहला कारण जो लोग समझते हैं वो है Pregnancy यानि की गर्भवस्था के लक्षण हैं।

महिलाओं को पीरियड्स 28 से 32 दिनों के चक्र में हो सकते हैं। याद रखिये दोस्तों की पीरियड्स के चक्र को कई कारण प्रभावित कर सकते हैं, या करते रहते हैं। कुछ महिलाओं के पीरियड्स नियमित हो सकते हैं। तो कई के अक़सर देरी से या जल्दी यानि अनियमित हो सकते हैं।

गर्भवस्था/Pregnancy

पहला कारण यह हो सकता है। अगर कोई unsafe sex हुआ है, और प्रेगनेंसी के चान्सेस हैं, और periods missing हैं तो एक home pregnancy test कर लेना बेहतर है।

तनाव-स्ट्रेस

अगर आप किसी बात से बहुत परेशान हैं, चिंतिति हैं तो यह आपके पीरियड्स को भी प्रभावित कर सकता है-जिसमें पीरियड्स का मिस होना, कम दिन या ज्यादा दिन ब्लीडिंग होना भी शामिल हो सकता है। इसलिए अगर पीरियड्स मिसिंग हैं तो उनमें से एक वजह यह भी हो सकती है।

वज़न/body weight

बहुत ज़्यादा वज़न का कम होना या बढ़ जाना भी पीरियड्स के लिए बनने वाले हॉर्मोन्स को प्रभवित कर सकता है जिसकी वजह से पीरियड्स लेट हो सकते हैं।

गर्भनिरोधक/Birth control

अगर आप गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल कर रही हैं या इसको बंद कर रही है। या आपने IUD या दूसरे किसी गर्भनिरोधन को शुरू किया है तो यह भी पीरियड्स के लिए ज़िम्मेदार हॉर्मोन्स को प्रभावित कर सकते हैं जिससे पीरियड्स चक्र प्रभावित हो सकते हैं।

PCOS-PCOD/पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम

अगर PCOS-PCOD-पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम भी शरीर में होर्मोनल असुंतलन बना कर पीरियड्स को प्रभावित कर सकता है। इसलिए जिनको अनियमित पीरियड्स की परेशानी शुरू हो गई है तो यह टेस्ट लेने की सलाह दी जाती है। या जिन्हें PCOD है उनके पीरियड्स को सामन्य पर लाने के लिए उनके डॉक्टर द्वारा मेडिकेशन शुरू की जाती है।
इसके अलावा थाइरोइड, इन दिनों महिलाओं में बहुत कॉमन स्वास्थ समस्या भी इसकी वजह बन सकते हैं।

रजोनिवृत्ति/Menopause

मेनोपोज़ वो स्थिति है जब महिलाओं के पीरियड्स स्थाई रूप से बंद हो जाते हैं, या इसकी प्रक्रिया शुरू कर देते हैं। यह आमतौर पर 45 से 55 की उम्र में महिलाओं में हो सकता है। हालाँकि कुछ महिलाओं को यह 40 की उम्र में भी शुरू हो सकता है जो कि premature menopause या Early मेनोपोज़ कहलाया जाता है।

अगर आपके पीरियड्स अनियमित रहते हैं, एक रजिस्टर्ड डॉक्टर से मिल लेना उनकी सलाह ले लेना बेहतर है।

अगर कोई सवाल हों तो नीचे लिखें आपको जल्दी जवाब दिया जायेगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *