प्रेगनेंसी के लक्षण-प्रेगनेंसी के शुरआती लक्षण क्या है?

Early pregnancy symptoms-Pregnancy symptoms

आप इस समय कन्फ्यूज़, परेशान, दुविधा या फिर उत्सुक भी हो सकते हैं। और किसी भी तरह यह जानना चाहते हैं कि आपके साथ क्या हो रहा है-क्या आप प्रेगनेंट हैं या नहीं हैं। चलिए आपकी दुविधा कम की जाये। इससे पहले की आप यह लेख पढ़ें आपको बताना चाहेंगे कि जब आप नीचे दिए गए लेख में हॉर्मोन्स का ज़िक्र पढ़ेंगे तो याद रखिये यहाँ मुख्यता जिन हॉर्मोन्स और उनके इस समय शरीर में उथल-पुथल के बारे में है। यह हैं: प्रोजेस्टेरोन, एस्ट्रोजन एचसीजी या रिलैक्सिन, कुछ और भी:

पीरियड्स का मिस होना:

प्रेगनेंसी के शुरआती लक्षणों में जो सबसे कॉमन हो सकता है वो है पीरियड्स का मिस होना। अगर आपके पीरियड्स नियमित हैं, यानि हर महीने समय पर आते हैं और इस बार वो एक हफ्ते से ज्यादा समय गुज़र जाने के बाद भी नहीं हुए, कोई असुरक्षित सेक्स हुआ था तो आप यह पुष्टि करने के लिए की प्रेगनेंसी है या नहीं एक होम प्रेगनेंसी टेस्ट यानि घर पर टेस्ट किट से टेस्ट ले सकती हैं। इस टेस्ट को करने का सही तरीका यहाँ से पढ़ सकते हैं।
लेकिन ज़रूरी नहीं है की हर मिसिंग-रुके हुए पीरियड्स प्रेगनेंसी का ही संकेत हों। कई बार स्ट्रेस, हॉर्मोन्स में बदलाव, जैसे और अन्य कारणों की वजह से भी पीरियड्स मिस हो सकते हैं।

यह भी याद रखें की प्रेगनेंसी निश्चित हो जाने के बाद भी पीरियड्स की तारीख़ के आस-पास आप खून के कुछ हल्के धब्बे देखते हैं तो यह कई महिलाओं के साथ हो सकता है, सो रिलैक्स! लेकिन इसके बारे में आपको अपने डॉक्टर जिनसे इस दौरान आप सलाह ले रही हैं उन्हें ज़रूर ध्यान से बताना चाहिए।

स्तनों में संवेदनशीलता का बढ़ जाना:

दूसरा जो एक समान्य शुरआती लक्षण है वो स्तनों में संवेदनशीलता का बढ़ जाना। यानि इस दौरान जब आप अपने स्तनों को छूते हैं तो उसमें झन्नाहट, या हल्का दर्द महसूस हो सकता है। आपको उनके साइज़ में परिवर्तन लग सकता है या वो थोड़े सूजे हुए लग सकते हैं। इसकी वजह हॉर्मोन्स में बदलाव है, समय के साथ जब शरीर इन हॉर्मोन्स के साथ तालमेल बैठा लेता है तो यह यह संवेदनशीलता ख़त्म होने लगती है।

थकान-ऊर्जा की कमी।

शुरआत के दिनों में आपको बहुत थकान महसूस हो सकती है, आपका मन सोने का लेते रहने का कर सकता है। जिसकी वजह शरीर में हॉर्मोन्स की मात्रा का बढ़ना है।

जी मिचलाना- कई बार उल्टी भी:

इसे सरल भाषा में मॉर्निंग सिकनेस कह सकते हैं यानि सुबह-सुबह उलटी आना, या बिना उलटी के ही जी मिचलाना, लेकिन यह मॉर्निंग सिकनेस दिन या रात या दिन के किसी भी समय हो सकती है। यह कई महिलाओं के साथ हो सकता है कई के साथ नहीं भी। जैसे इन्हे

पेशाब जल्दी-जल्दी जाना।

इस समय हो सकता है की आप को बार-बार पेशाब जाने की ज़रूरत पढ़ रही है । लेकिन ध्यान रखिये बार-बार पेशाब जाने की ज़रूरत जलन और दर्द के साथ यूटीआई यानि यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन जो की महिलाओं के यूरिनरी सिस्टम में होने वाला सबसे कॉमन इन्फेक्शन है यह वो भी हो सकता है। इसलिए अगर ऐसा होता है तो एक पंजीकृत डॉक्टर से ज़रूर मिल लें।

अंत में एक बात याद रखिये कि इनमें से कोई भी लक्षण एक पक्का प्रेगनेंसी का सबूत नहीं है। प्रेगनेंसी है या नहीं इसके लिए केवल एक प्रेगनेंसी टेस्ट चाहें घर पर या डॉक्टर से मिलकर करने पर भी पक्के तौर पर कुछ कहा जा सकता है।

ठीक है जी!

अपना ख्याल रखिये!

1 thought on “प्रेगनेंसी के लक्षण-प्रेगनेंसी के शुरआती लक्षण क्या है?”

  1. Pingback: Periods late, Periods miss होने के क्या कारण हो सकते हैं? Why is period missing or late? - Mummy and Rumi - Read and share stories of motherhood

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *